मोदी जी कलम से खादी ….

भाइयो और बहनों गाँधी जी का सपना था कि प्रतेक भारतवासी स्वावलंबी बने और गाँधी जी ने इसी सपने को साकार करने के लिए उन्होंने हमें खादी का मंत्र दिया|

यह बहुत ही ख़ुशी की बात हैं कि सरकार के यह सभी प्रयास बहुत ही फलीभूत हो रहे हैं और खादी के उत्पादों के निर्माताओ द्वारा तैयार किये गए उत्पादो का उपयोग करने के लिए बहुत से संगठन आगे आ रहे हैं| इसमें कई प्रकार के सरकारी एवम कई प्राइवेट संगठन शामिल है| इसके चलते खादी के रोजगार शेत्र में काफी बढ़ोतरी हुईं हैं तथा प्रति वियक्ति आय में भी इजाफा हुआ हैं|

0-03586300_1454134803_1155-548-pms-letter-to-the-brothers-and-sisters-associated-with-khadi-gramudyog-industry

आजादी के आन्दोलन मैं एक विशेष भूमिका निभाने वाला खादी आज एक फैशन बन गया हैं| खादी से जुडे निर्माताओ एवम नए निर्माताओ को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कई प्रकार की कल्याणकारी योजना बनाई है जैसे अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना इत्यादि| इन सभी योजनाओ का लाभ काफी आसानी से लिया जा सकता है|

हमारी सरकार गांवों में खादी और ग्रामोधोग का नेटवर्क तैयार करना चाहती है, ताकि लोगो को रोजगार से जोड़ कर गांवों के प्रतेक परिवार को सबल बनाया जा सके|

मित्रो खादी और ग्रामोद्योग का उत्पादन केवल एक उत्पाद नहीं हैं, बल्कि देश के सेकड़ो गाँव में बैठे हजारो कारीगरों और मजदूरो का जीवन आधार है| हमारे देश में चल रही बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी देश को शायद बहुत अच्छा जीडीपी ग्रोथ दे सकती है, परन्तु देश का ग्रामोद्योग देश को बहुत खुशिया प्रदान करेगा| जिसके कारण सेकड़ो घरो में श्रम का दीपक जलेगा और उनके चेहरे पर मुस्कान लाने में आप का भी योगदान रहेगा|

अंत में मैं यही कहूँगा कि, खादी द्वारा निर्मित केवल एक उत्पाद ख़रीदे एवम मदद करे किसी श्रमिक के घर दीपावली का दीपक जलाने की|

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s